Bharat Mein Sinchayi

Bharat Mein Sinchayi , भारत में सिंचाई

भारत में सिंचाई [ Irrigation In India ]

भारत में सिंचाई

  • आजादी के बाद अब तक कुल सिंचित क्षेत्र 5 गुना ज्यादा बढ़ाया जा चुका है लेकिन 2015 के आंकड़ों के अनुसार अभी भी शुद्ध बोए गए क्षेत्र का मात्र 46% क्षेत्र पर ही सिंचाई सुविधा का विकास किया गया है |
  • अर्थात अभी भी शुद्ध बोए गए क्षेत्र का शेष 54 % क्षेत्रफल मानसूनी वर्षा पर निर्भर है।
  • भारत में सर्वाधिक सिंचित क्षेत्रफल वाला राज्य उत्तर प्रदेश है |
  • इसके बाद क्रमशः राजस्थान, पंजाब और आंध्र प्रदेश हैं।
  • कुल क्षेत्रफल की दृष्टि से सर्वाधिक सिंचित राज्य पंजाब है पंजाब का 97% भाग सिंचित है।
  • सर्वाधिक असिंचित क्षेत्रफल वाला राज्य महाराष्ट्र है तथा इसके बाद राजस्थान है।

देश के कुल सिंचित क्षेत्रों में नहरों, कुओं, नलकूपों व तालाबों का योगदान –

  1. – नलकूपों (पंपसेट) और कुआं द्वारा – 57 %
  2. – नहरों द्वारा – 32%
  3. – तालाबों द्वारा – 6%
  • शीर्ष चार नहर सिंचित राज्य – उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, पंजाब
  • शीर्ष तीन नलकूप सिंचित राज्य – उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार
  • दक्षिण भारत में प्राचीन काल से तालाब सिंचाई की परंपरा रही है।
  • शीर्ष दो तालाब सिंचित राज्य – आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु
  • दक्षिण भारत में कटोरीनुमा स्थलाकृति या थाला प्राकृतिक रूप से पाई जाती है।

योजना आयोग ने सिंचाई परियोजना को तीन भागों में बांटा है।

1- वृहद सिंचाई परियोजना

  • वृहद सिंचाई परियोजनाओं में 10000 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र को सिंचित करने वाली परियोजनाओं को शामिल किया जाता है।
  • बड़े बांध एवं उनसे निकाली गई बड़ी नहरें

2- मध्यम सिंचाई परियोजना

  • 2000 हेक्टेयर से अधिक और 10000 हेक्टेयर से कम छोटी नहरे

3- लघु सिंचाई परियोजना

  • 2000 हेक्टेयर या उससे कम क्षेत्र
  • नलकूप, कुआ, तालाब, ड्रिप और स्प्रिंकल
  • देश में सर्वाधिक सिंचित क्षेत्रफल लघु सिंचाई परियोजना के अंतर्गत आता है
इने भी जरूर पढ़े – 

Leave a Reply