Newton’s Laws of Motion In Hindi

न्यूटन के गति के नियम (Newton’s Laws of Motion)

  • गति के नियमों को सबसे पहले सर आइजक न्यूटन ने सन् 1687 ई० में अपनी पुस्तक प्रिंसीपिया (Principia) में प्रतिपादित किया। इसीलिए इस वैज्ञानिक के सम्मान में इन नियमों को न्यूटन के गति नियम कहते हैं।

Read Also —

मापन और मात्रक ( Measurement and Units )

न्यूटन के गति के नियम तीन प्रकार के है। जो निम्न है —

1 . न्यूटन के गति का प्रथम नियम ( जड़त्व का नियम )
2 . न्यूटन के गति का द्वितीय नियम ( संवेग का नियम )
3 . न्यूटन के गति का तीसरा नियम ( क्रिया – प्रतिक्रिया का नियम )

1 . न्यूटन के गति का प्रथम नियम ( जड़त्व का नियम )

कोई वस्तु विराम की अवस्था में है, तो वह विराम की अवस्था में ही रहेगी और यदि वह एकसमान गति से किसी सीधी रेखा में चल रही हो, तो वैसे ही चलती रहेगी, जब तक कि उस पर कोई बाहरी बल लगाकर उसकी अवस्था में परिवर्तन न किया जाय। अर्थात, सभी वस्तुएँ अपनी प्रारंभिक अवस्था को बनाये रखना चाहती है।।

वस्तुओं की प्रारंभिक अवस्था (विराम या गति की अवस्था) में स्वतः परिवर्तन नहीं होने की प्रवृत्ति को जड़त्व (Inertia) कहते हैं। इसीलिए न्यूटन के प्रथम नियम को ‘जड़त्व का नियम भी कहा जाता है।

बल वह बाह्य कारक है, जिसके द्वारा किसी वस्तु की विराम अथवा गति की अवस्था में परिवर्तन किया जाता है। अतः प्रथम नियम हमें बल की परिभाषा (definition of force) देता है।

जडत्व के कुछ उदाहरण:

  1. रुकी हुई गाड़ी के अचानक चल पड़ने पर उसमें बैठे यात्री पीछे की ओर झुक जाते हैं।
  2. चलती हुई गाड़ी के अचानक रुकने पर उसमें बैठे यात्री आगे की ओर झुक जाते हैं ।
  3. गोली मारने से काँच में गोल छेद हो जाता है, परन्तु पत्थर मारने पर वह काँच टुकड़ेटुकड़े हो जाता है।
  4.  हथौड़े को हत्थे में कसने के लिए हत्थे को जमीन पर मारते हैं।
  5.  कम्बल को हाथ से पकड़कर डण्डे से पीटने पर धूल के कण झड़कर गिर पड़ते हैं।
  6.  यदि पानी से भरे गिलास के ऊपर एक पोस्टकार्ड और उस पर एक सिक्का रखें तथा पोस्टकार्ड को आगे की ओर झटका दें तो पोस्टकार्ड आगे की ओर गिरता है जबकि सिक्का गिलास में रखे पानी में।
  7. पेड़ की टहनियों को हिलाने से उससे फल टूटकर नीचे गिर पड़ते हैं।
  8.  एक लॉन रोलर (Lawn roller) को गति में लाने में या एक गतिशील लॉन रोलर को विराम में लाने में अधिक बल की जरूरत पड़ती है जबकि एक गतिशील लॉन रोलर को गति में बनाये रखने में अपेक्षाकृत कम बल की जरूरत पड़ती है।

नोट — दोस्तों अगर आपको ExamSector टीम द्वारा उपलब्ध की जानकारी अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना।

Leave a Reply