राजस्थान के प्रतीक चिन्ह

Rajasthan Ke Pratik Chinh

राजस्थान के प्रतीक चिन्ह ( Rajasthan Ke Pratik Chinh )

राजस्थान के प्रतीक चिन्ह

राज्य वृक्ष–खेजड़ी

  • वैज्ञानिक नाम—प्रोसेपिस सिनेररिया 
  • राज्य वृक्ष घोषित—31 अक्टूबर, 1983
  • अन्य नाम—कल्पवृक्ष, जांटी (स्थानीय नाम), शमी वृक्ष (धार्मिक ग्रंथों में) 
  • खेजड़ी की पत्तियाँ ‘लूम’ व हरी फली ‘सांगरी’ कहलाती है। 

राज्य पुष्प– रोहिड़ा का फूल’

  • वैज्ञानिक नाम – टेकुमेला अण्डुलेटा 
  • राज्य पुष्प घोषित—-31 अक्टूबर, 1983 
  • अन्य नाम—राजस्थान का सागवान, मरुस्थल की शोभा 
  • पुष्प का रंग – केसरिया तथा हिरमीची पीला

राज्य पक्षी–गोडावण

  • वैज्ञानिक नाम – क्राइटिस नाइग्रीसेप्स 
  • राज्य पक्षी घोषित-21 मई, 1982 
  • अन्य नाम – ग्रेट इण्डियन बस्टर्ड, हुकना पक्षी 
  • विचरण क्षेत्र – राजस्थान मरु उद्यान (जैसलमेर, बाड़मेर), सोरसन (बारां) एवं सोंखलिया (अजमेर) 
  • गोडावण का प्रजनन काल मार्च मे सितम्बर के मध्य होता है प्रजनन काल में नर के गले के नीचे एक ग्रंथि काफी बड़ी होकर लटकने लगती है। 
  • मादा गोडावण आकार में नर गोडावण से छोटी होती है जो गहरी भूरे रंग की चिलियों युक्त बादामी या जैतूनी भूरे रंग के एक या दो अण्डे देती है। 

राज्य पशु–चिंकारा

  • वैज्ञानिक नाम — गजेला-गजेला 
  • राज्य पशु घोषित-12 दिसम्बर, 1983
  • अन्य नाम छोटा — हिरण (एण्टीलोप) 

राज्य खेल–बॉस्केटबॉल

  • राज्य खेल घोषित – 1948 
  • राजस्थान बास्केटबॉल संघ का मुख्यालय — जयपुर

इने भी जरूर पढ़े –

Leave a Reply