Rise of islam ( इस्लाम का उदय )

Rise of islam ( इस्लाम का उदय )

इस्लाम का उदय ( Rise of islam )

  •  इस्लाम अरबी भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है। ये हैं सल्म (शांति) एवं सिल्म (समर्पण)।
  •  इस्लाम धर्म का उदय अरब देश में हुआ।
  •  इस्लाम धर्म के उदय के पहले अरब में बहुदेववाद एवं
  • मूर्तिपूजा का प्रचलन था।
  •  इस्लाम धर्म के प्रवर्तक पैगम्बर मुहम्मद साहब थे।
  •  मूर्तिपूजा का विरोधी है।
  •  इस्लाम के अनुयायियों को मुसलमान कहा जाता है। इनका पवित्र ग्रंथ कुरान शरीफ है।

मुसलमानों के 5 कर्तव्य

1.कलमा : अल्लाह पर पूर्ण विश्वास प्रकट करना।
2. नमाज : प्रत्येक मुसलमान को दिन में 5 बार नमाज पढ़ना चाहिए।
3.रोजा : रमजान के महीने में सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक अन्न-जल ग्रहण किये बिना अल्लाह की
इबादत करना।
4.जकात : अपनी आय का 2.5% (ढाई) गरीबों में दान करना।
5.हज : प्रत्येक मुसलमान को जीवन में कम से कम एक बार मक्का की यात्रा करनी चाहिए।

  •  पैगम्बर मुहम्मद साहब प्रथम मुस्लिम राज्य की स्थापना की और मदीना को केन्द्र बनाकर मुसलमानों पर शासन किया।
  •  पैगम्बर साहब ने धर्मराज्य अर्थात् खिलाफत की स्थापना की।
  • पैगम्बर साहब के बाद खिलाफत (धर्मराज्य) के प्रमुख को खलीफा कहा गया।

पवित्र खलीफा

  • पैगम्बर साहब के बाद चार पवित्र खलीफा हुए। ये चारों पैगम्बर साहब के साथी रह चुके थे तथा सर्वसम्मति से इन्हें खलीफा चुना गया अतः ये पवित्र खलीफा कहलाये।
  • पवित्र खलीफाओं की राजधानी मदीना थी।

1. अबूबक्र – 632-634 ई.

  • ये प्रथम खलीफा थे इन्होंने अल्लाह को केन्द्र में रखकर मुसलमानों पर शासन किया एवं इस्लाम धर्म का प्रचार प्रसार किया।

12. हजरत उमर-634-644 ई.

  •  इनके समय में विजय अभियान बहुत सफल रहे। इन्होंने ईरान, ईराक, मिस्र, सीरिया आदि क्षेत्रों को जीतकर खिलाफत में सम्मिलित किया।
  • इन्हीं के समय में 636 ई. में अरबों का भारत पर पहला आक्रमण हुआ जो असफल रहा।

3. हजरत उस्मान- 644-656 ई.

  •  इनके समय में 651 ई. में पवित्र धर्मग्रंथ कुरान शरीफ का संकलन हुआ। यह ग्रंथ अरबी भाषा में संकलित है।

4. हजरत अली-656-661ई.

  • इनके समय में भी विजय अभियान चलते रहे।

5. उमैय्या वंश 661-749 ई.

  •  661 ई. में अली की मृत्यु के बाद मुबैय्या नामक व्यक्ति ने अली के पत्र हसन को हटाकर स्वयं खलीफा बन गया।
  • उमैय्या वंश की राजधानी दमिश्क थी।

अब्बासी वंश – 749-1258 ई.

  • 749 ई. में अब्बास सफ्फाह ने ईरानियों के सहयोग से उमैय्या वंश का अंत करके अब्बासी वंश की स्थापना की।
  • अब्बासी वंश की राजधानी बगदाद थी।
  • इस वंश का अंतिम खलीफा मुस्तकीम थे।

इने भी पढ़े —

General Knowledge

Reasoning Notes 

Biology Notes

Polity Notes

Physics Notes


 

Leave a Reply