कोशिका or कोशिका के प्रकार

कोशिका or कोशिका के प्रकार ( Types of Cells Notes in Hindi )

Types of Cells Notes in Hindi

कोशिका :- 

  • कोशिका जीवों की आधारभूत संरचनात्मक एवं कार्यात्मक इकाई है। (Cell is the basic structural and functional unit of living)। यह एक विशिष्ट पारगम्य कला (Differentially permeable membrane) से घिरी रहती है तथा इसमें प्रायः स्वजनन (Self reproduction) की क्षमता होती है। प्रत्येक जीव का शरीर एक सूक्ष्मतम इकाई द्वारा निर्मित होता है, जिसे ‘कोशिका’ (Cell) कहते हैं।
  • कोशिका विज्ञान (Cytology)जीव विज्ञान की वह शाखा है, जिसके अन्तर्गत कोशिकाओं और । उसके अंदर की वस्तुओं की रचना और कार्यिकी (Physiology) का अध्ययन किया जाता है।

रचना के आधार पर कोशिकाएँ दो प्रकार की होती हैं। ये हैं—1. प्रोकैरियोटिक कोशिका तथा 2. यूकैरियोटिक कोशिका।

1. प्रोकैरियोटिक कोशिका (Prokaryotic cell) :

  • इस प्रकार की कोशिकाएँ प्रारम्भिक कोशिकाएँ (Primitive cells) कहलाती हैं। यह सरल रचना वाली कोशिका होती है। इस प्रकार की काशकाओं में स्पष्ट केन्द्रक (True Nucleus) का अभाव होता है । जीवाणु कोशिका (Bacterial Cell) इस प्रकार की कोशिका का सबसे अच्छा उदाहरण है। इनका आकार प्रायः 14 से 100 के मध्य होता है। इनमें पाये जाने वाले आनुवंशिक पदार्थ (Genetic material) अर्थात् DNA द्वारा निर्मित गुणसूत्र (Chromosome) कोशिका द्रव्य (Cytoplasm) के विशेष क्षेत्र में मौजूद होते हैं। इस विशेष क्षेत्र को न्यूक्लिओइड (Nucleoid) कहते हैं। केन्द्रक झिल्ली (Nuclear Membrane) की अनुपस्थिति के कारण केन्द्रक में पाये जाने वाले पदार्थ जैसे—DNA, RNA, प्रोटीन आदि कोशिका द्रव्य के सम्पर्क में रहते हैं। कोशिका द्रव्य में राइबोसोम (Ribosome) के कण उपस्थित होते हैं, परन्तु अन्य कोशिकांगों का अभाव रहता है। प्रकाश संश्लेषी जीवाणु में हरित लवक (Chloroplast) प्लाज्मा झिल्ली द्वारा निर्मित थैलीनुमा संरचना में मौजूद होता है।

2. यूकैरियोटिक कोशिका (Eukaryotic cell) :

  • वैसी कोशिकाएँ जो पूर्ण रूप से विकसित होती हैं, यूकैरियोटिक कोशिकाएँ कहलाती हैं। इस प्रकार की कोशिकाएँ विषाणु (Virus), जीवाणु (Bacteria) तथा नील-हरित शैवाल (Blue-green Algae) को छोड़कर सभी पौधे तथा जन्तु में पायी जाती हैं। यह रचनात्मक आधार पर पूर्ण विकसित कोशिका होती है। इनका आकार बड़ा होता है। इस प्रकार की कोशिका में पूर्ण विकसित केन्द्रक होता है जो चारों ओर से दोहरी झिल्ली द्वारा घिरा होता है। कोशिका द्रव्य में झिल्लीयुक्त कोशिकांग उपस्थित होते हैं। इनमें गुणसूत्र (Chromosome) की संख्या एक से अधिक होती है।

इने भी जरूर पढ़े – 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Leave A Comment For Any Doubt And Question :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *