राजस्थान के प्रमुख महल

Rajasthan ke pramukh mahal

राजस्थान के प्रमुख महल

Rajasthan ke pramukh mahal

महल का नाम स्थान विशेष विवरण
हवामहल जयपुर सवाई प्रतापसिंह द्वारा निर्मित भगवान श्रीकृष्ण के मुकुट के आकार के इस पाँच मंजिला महल में 365 जाली झरोखे हैं। हवामहल राजस्थान के पर्यटन का पर्याय बन चुका है। यहाँ पर स्थित संग्रहालय में जयपुर के शासकों के आदमकद चित्र (पोट्रेट) लगे हैं। यह महल जयपुर नगर के मध्य में बड़ी चौपड़ पर स्थित है।
जलमहल जयपुर मानसागर झील में स्थित।
चन्द्रमहल आमेर (जयपुर) वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य द्वारा निर्मित, इस महल की आधुनिक साज-सज्जा महाराजा मानसिंह द्वितीय ने करवाई।
आमेर महल जयपुर हिन्दू-मुस्लिम शैली का अद्भुत समन्वय ।
मुबारक महल जयपुर सवाई माधोसिंह द्वारा निर्मित अतिथियों के ठहरने का स्थान ।
सामोद महल सामोद (जयपुर) चौमूं के निकट स्थित इस महल में शृंगार चित्रकला का सुंदर अंकन किया गया है।
नाहरगढ़ के नौ महल जयपुर नाहरगढ़ दुर्ग में स्थित एक जैसे नौ महलों का निर्माण माधोसिंह द्वितीय द्वारा नौ पासवान (रानियों) के नाम पर करवाया गया।
उम्मेद भवन (छीतर पैलेस) जोधपुर

 

महाराजा उम्मेदसिंह ने अकाल राहत के तहत बनवाया जिसके एक हिस्से में संग्रहालय व दूसरे हिस्से में प्रसिद्ध उम्मेद भवन पैलेस होटल है।
छत्रविलास कोटा छत्रविलास तालाब के बीचो-बीच स्थित इस महल का निर्माण महाराव दुर्जनशाल ने करवाया।
जग मन्दिर एवं जग निवास उदयपुर पिछोला झील में स्थित महल, इसमें अपने पिता से विद्रोह करके आया शहजादा खीम (शाहजहाँ) ठहरा था।
सुनहरी कोठी टोंक नवाब वजीउद्दौला द्वारा निर्मित रंगीन काँच से जड़ित सुंदर ‘शीशमहल’।
बिजोलाई महल जोधपुर कायलाना की पहाड़ियों में स्थित महल जिसका निर्माण तख्तसिंह ने करवाया।
काष्ठ प्रासाद झालावाड़ कृष्ण सागर झील के किनारे स्थित इस महल का निर्माण राजेन्द्र सिंह ने करवाया।
अबला मीणी का महल कोटा मुकन्दरा हिल्स पर स्थित महल।
गुलाब महल कोटा  
अभेड़ा महल कोटा चम्बल नदी पर स्थित इस ऐतिहासिक महल को राज्य सरकार द्वारा पर्यटन केन्द्र के रूप में |विकास हेतु विस्तृत योजना क्रियान्वित की है।
बनेड़ा महल भीलवाड़ा भीलवाड़ा में स्थित बनेड़ा दुर्ग में स्थित सरदार सिंह द्वारा निर्मित सरदार महल।
सुख महल बूंदी सन् 1773 में विष्णुसिंह द्वारा निर्मित यह महल जैतसागर झील के किनारे स्थित है।
बादल महल जैसलमेर इस महल का निर्माण किले की भाँति करवाया गया है।
पटवों की हवेली जैसलमेर पीले पत्थर पर नक्काशी के लिए प्रसिद्ध ।
खेतड़ी महल झुंझुनूं राजा भोपाल सिंह द्वारा निर्मित ताज के आकार का हवादार महल, जिसका उपयोग शाही परिवार के लोग ग्रीष्मकाल में करते थे। राजस्थान का दूसरा हवामहल कहलाता है।
फतेहप्रकाश महल चित्तौड़ चित्तौड़गढ़ दुर्ग में स्थित।
स्वरूप निवास चित्तौड़ महाराजा स्वरूपसिंह द्वारा निर्मित महल।
केसर विलास चित्तौड़ महाराव केसरीसिंह द्वारा निर्मित महल।

इने भी जरूर पढ़े –

Leave a Reply