What is html ( html kya hai )

हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज एच टी एम एल (Hypertext Markup Language-HTML)

नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है examsector.com में। दोस्तों इस पोस्ट की मदद से में आपको html भाषा के बारे में बताऊंगा। html एक coding भाषा होत्ती है। अगर आपको html आता हो तो आप अपनी वेबसाइट को चाहे जैसा लुक दे सकते हो। दोस्तों इस पोस्ट की मदद से में आपको Basic HTML और html tag kya hai इन के बारे में बताऊंगा। कि Basic HTML का उपयोग कैसे किया जाता है। किसी भी वेबसाइट की पोस्ट को seo कराने के लिए tags बहुत जरुरी होते है। तथा इस पोस्ट की साहयता से में आपको Basic HTML Tags के बारे में बताऊंगा।

  • यह एक ऐसी लैंग्वेज है, जिसका प्रयोग वेब पेजिज़ को लिखने के लिए किया जाता हैं। HTML को टिम बर्नर्स ली (Tim Berners Lee) द्वारा 1990 के दशक के प्रारम्भ में स्विट्ज़रलैण्ड में वर्ल्ड वाइड वेब पर वेब पेजिज़ को प्रकाशित करने के लिए विकसित किया गया था। HTML लैंग्वेज केवल उसी कम्प्यूटर पर रन (Run) होती है, जिस पर कोई वेब ब्राउज़र; जैसे- इण्टरनेट एक्सप्लोरर (Internet Explorer), फायरफॉक्स (Firefox), गूगल क्रोम (Google Chrome) इत्यादि इन्स्टॉल होता है। यह एक प्लेटफॉर्म इण्डिपेन्डेन्ट (Platform Independent) और आर्किटेक्चर न्यूट्रल (Architecture Neutral) लैंग्वेज है; अत: इसे किसी भी हार्डवेयर आर्किटेक्चर और किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ रन किया जा सकता है। हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज का पूर्ण स्वरूप निम्न प्रकार से वर्णित हैं-

हाइपर (Hyper)

  • हाइपर शब्द का अर्थ हाइपरलिंक (Hyperlink) से है। इण्टरनेट पर डॉक्युमेण्ट्स आवश्यकतानुसार किसी भी पेज पर, हाइपरलिंक द्वारा पहुँच सकता है।

टेक्स्ट (Text)

  • टेक्स्ट उपभोक्ता को यह बताता है कि आप जिस फाइल पर कार्यरत हैं, उसमें केवल टेक्स्ट ही टाइप किया जा सकता है।

मार्कअप (Markup)

  • वेब पेज बनाने के लिए सर्वप्रथम हम टेक्स्ट टाइप करते हैं, उसके बाद उस टेक्स्ट की मार्किंग करते हैं अर्थात HMT, की कोडिंग करते सम ब्राउज़र को यह बताना होता है कि कौन-सा टेक्स्ट बोल्ड जाएगा और कहाँ इमेज लगेगी, यह कार्य मार्कअप दारा सम्पन्न होता है।

लैंग्वेज (Language)

  • लैंग्वेज का अर्थ है कि HTML में कार्य करने के लिए, एक भाषा को उसके प्रारूप के साथ प्रयोग कर रहे हैं।

विशेषताएँ (Features)

HTML डॉक्युमेण्ट की निम्नलिखित विशेषताएँ होती हैं

  1. HTML फाइल एक टेक्स्ट फाइल होती है, जिसमें बहुत सारे छोटे-छोटे मार्कअप टैग्स होते हैं।
  2. मार्कअप टैग्स वेब ब्राउज़र को यह बताते हैं कि पृष्ठ को किस प्रकार से प्रदर्शित करना है।
  3. HTML फाइल में .htm या .html फाइल एक्सटेंशन का होना, अत्यन्त ही आवश्यक होता है।
  4.  HTML फाइल को एक सामान्य टेक्स्ट एडिटर की सहायता से बनाया जा सकता है।

(HTML Elements or Tags)

  • HTML टैग्स के रूप में लिखा जाता है। एक टैग ऐंगल ब्रैकेट (<और>) के साथ बन्द होता है। HTML एलिमेण्ट्स के अर्थविज्ञान या अर्थ को प्रदर्शित करते हैं।

HTML टैग्स पूर्व परिभाषित होते हैं तथा केस सेंसिटिव नहीं होते हैं।

  • सभी HTML टैग्स ऐंगल ब्रैकेट्स (<और>) के मध्य टाइप होते हैं और इन ब्रैकेट्स के बीच के टेक्स्ट को एलिमेण्ट कहते हैं।
  •  ओपनिंग (Opening) टैग्स Less than (<) और Greater than (>) चिह्न के साथ लिखे जाते हैं। उदाहरण, html .
  • क्लोजिंग (Closing) टैग्स ऐंगल ब्रैकेट्स (<और>) के साथ फॉरवर्ड स्लैश (/) के बीच में लिखे जाता है। उदाहरण </html>
  • एट्रिब्यूट्स (Attributes) सदैव ओपनिंग टैग्स में निर्दिष्ट होते हैं जो टैग के विषय में अतिरिक्त सूचना प्रदान करते हैं. यह  name/value  पेयर (Pair); जैसे- name = “value” में आता है।

HTML एलिमेण्ट्स को निम्नलिखित दो वर्गों में वर्गीकृत किया जा सकता है

1. कन्टेनर एलिमेण्ट्स (Container Elements)

प्रत्येक कन्टेनर एलिमेण्ट्स का एक ओपनिंग और एक क्लोजिंग टैग होता है। उदाहरण के लिए, <head> और </head>,<p> और </p>, <b> और </b> आदि। किसी भी कन्टेनर एलिमेण्ट के मध्य लिखे गए कन्टेन्ट पर उस एलिमेण्ट का प्रभाव पड़ता है। उदाहरण के लिए, <b> और </b>, एक कन्टेन्टर एलिमेण्ट है, जिसके मध्य लिखा गया टेक्स्ट बोल्ड होकर प्रदर्शित होता है। इसी प्रकार <p> और </p> भी एक कन्टेनर एलिमेण्ट है, जिसके मध्य लिखा गया टेक्स्ट, ब्राउज़र द्वारा एक पैराग्राफ के रूप में व्यवहार में लाया जाता है।

2. एम्प्टी एलिमेण्ट्स (Empty Elements)

एम्प्टी एलिमेण्ट्स के ओपनिंग टैग तो होते हैं, परन्तु क्लोजिंग टैग नहीं होते। उदाहरण के लिए, <br><br> आदि। एम्प्टी एलिमेण्ट्स के कुछ विशेषताएँ (Features) होती हैं, जो एट्रिब्यूट्स (Attributes) कहलाते हैं और इन्हें टैग नेम (Tag Name) के साथ ऐंगल ब्रैकेट्स (< और >) के मध्य ही लिखा जाता है।

HTML सरचना (HTML Structure)

  • HTML डॉक्युमेण्ट विभिन्न टैग्स का संयोजन होता है जो बेब पेजिज़ के संरचना और रूप को परिभाषित करता है।
  • HTML डॉक्युमेण्ट में सदैव चार बेसिक (Basic) एलिमेण्ट्स उपस्थित रहते हैं जो निम्नलिखित है जो निम्नलिखित है
  1. <html> टैग ब्राउज़र को बताता है कि यह एक HTML डॉक्युमेण्ट है। HTML फाइल्स इस टैग के साथ प्रारम्भ होती है और क्लोजिंग टैग (Closing Tag) के साथ बन्द होती है।
  2.  <head> टैग, टेक्स्ट और टैग्स के लिए प्रयोग होता है जो वेब पेज पर सीधे दिखाई नहीं देता है। यह फाइल के हैडर की तरह काम करता है। और वेब पेज के टाइटल को सेट करने के लिए कुछ सूचना सम्मिलित करता है।
  3. <title> टैग डॉक्युमेण्ट टाइटल को सम्मिलित करता है। यह टैग <head> और </head> टैग के मध्य में होता है। जो टाइटल इस टैग के अन्दर निर्दिष्ट (Specified) होता है, ब्राउज़र के टाइटल बार पर वही दिखाई देता है।
  4. <body> टैग, टेक्स्ट और टैग्स के लिए प्रयोग होता है जो वेब पेज पर सीधे दिखाई देता है। यह वेब पेज के लुक एण्ड फील (Look and Feel) क्रिएट करने में हमारी सहायता करता है। यह आपके सभी कन्टेन्ट्स, शब्दों, पिक्चर्स और अन्य तत्त्वों को रखता है। किसी भी वेब पेज को क्रिएट करने के लिए सबसे बेसिक (Basic) संरचना निम्नलिखित है

इने भी जरूर पढ़े –

Reasoning Notes And Test 

सभी राज्यों का परिचय हिंदी में।

राजस्थान सामान्य ज्ञान ( Rajasthan Gk )

Solved Previous Year Papers

History Notes In Hindi

Leave a Reply