वर्डपैड WordPad

वर्डपैड WordPad

  • नमस्कार दोस्तों Welcome to our website :- [su_button]ExamSector.Com[/su_button]में। दोस्तों इस पोस्ट की मदद से में आपको वर्डपैड WordPad के बारे में बताऊंगा। वर्डपैड WordPad का कंप्यूटर में किस तरह से उपयोग किया जाता है। वर्डपैड WordPad का उपयोग ज्यादातर blogger तथा notes बनाने जाता है।
  • यह विण्डोज ऑपरेटिंग सिस्टम में उपलब्ध एक वर्ड प्रोसेसिंग प्रोग्राम है। वर्डपैड एक बहुत शक्तिशाली वर्ड प्रोसेसर है। यह वर्ड प्रोसेसर उपयोगकर्ता को एक ही दस्तावेज में पाठ्य (Text) तथा चित्र (Graphic) शामिल करने की सुविधा देता है। वर्डपैड की एक विशेषता उसकी सम्पादक क्षमता है, जो इसको नोटपैड से भिन्न करती है। वर्डपैड की फाइलों का विस्तारक (Extension).rtf होता है।

वर्डपैड को प्रारम्भ करने के लिए निम्न चरणों का अनुसरण कीजिए

  1.  Start बटन को क्लिक कीजिए। इससे स्टार्ट मेन्यू खुल जाएगा।
  2.  स्टार्ट मेन्यू में माउस प्वॉइण्टर को All Programs विकल्प पर ले जाइए। इससे स्टार्ट मेन्यू के साइड (Side) में All Programs का सब-मेन्यू खुल जाएगा।
  3.  इस मेन्यू में माउस प्वॉइण्टर को Accessories विकल्प पर ले जाइए। इससे Accessories का सब-मेन्यू खुलेगा।
  4. इस सब-मेन्यू में WordPad विकल्प को क्लिक कीजिए। इससे वर्डपैड प्रारम्भ हो जाएगा और आपकी स्क्रीन पर उसकी विण्डो दिखाई देने लगेगी।

जिसमें आप कोई भी नया डॉक्यूमेण्ट बना सकते हैं या पुरानी डॉक्यूमेण्ट फाइल को खोलकर उसमें सुधार कर सकते हैं।

वर्डपैड के भाग

वर्डपैड की विण्डो को कई भागों में बाँटा गया है। इनमें से प्रमुख भागों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है।

(i) टाइटल बार (Title Bar)

  • वर्डपैड विण्डो में सबसे ऊपर की पंक्ति इसकी टाइटल बार होती है। इसमें इस प्रोग्राम का नाम दिखाया जाता है। यदि कोई डॉक्यूमेण्ट खुला हुआ है, तो उसका नाम भी इस बार में बाएँ कोने में दिखाया जाता है, नहीं तो Document’ शब्द दिखाई पड़ता है।

(ii) मेन्यू बार (Menu Bar)

  • टाइटल बार के ठीक नीचे मेन्यू बार होता है, जिसमें कई मेन्यू नाम शामिल होते हैं। प्रत्येक मेन्यू नाम (Menu Name) एक पुल-डाउन मेन्यू से सम्बन्धित होता है, जिसमें कई विकल्प होते हैं।

(iii) स्टैण्डर्ड टूल बार (Standard Toolbar)

  • यह टूल बार सामान्यतः मेन्यू बार के नीचे दिखाई पड़ता है। इसमें एक पंक्ति में कई बटन होते हैं, जिसमें से प्रत्येक पर एक आइकन (Icon) होता है। इन बटनों का प्रयोग विभिन्न कार्य को कराने में किया जाता है; जैसे-डॉक्यूमेण्ट खोलना, उसे स्टोर करना, छपवाना आदि। वैसे तो आइकन देखने से पता चलता है कि कौन-सा बटन किस कार्य के लिए है, परन्तु जैसे ही आप माउस प्वॉइण्टर को किसी बटन पर ले जाते हैं, उसके पास ही बटन का नाम उभर आता है।

(iv) फॉर्मेटिंग टूल बार (Formatting Toolbar)

  • स्टैण्डर्ड टूल बार के ठीक नीचे की पंक्ति में फॉर्मेटिंग टूल बार होता है। इसकी सहायता से हम अपने दस्तावेज (Document) को सुन्दर रूप में फॉर्मेट कर सकते हैं। यह चार भागों में बंटा होता है।
  1.  पहला भाग एक ड्रॉप-डाउन लिस्ट (Drop-down list) है, जिसमें अक्षरों के बहुत से रूप या छापे (Fonts) दिए होते हैं। आपको उनमें से एक रूप चुनना होता है।
  2.  दूसरा भाग भी एक ड्रॉप-डाउन लिस्ट है, जिसमें अक्षरों का आकार (Size) भरा या चुना जाता है।
  3.  तीसरा भाग भी एक ड्रॉप-डाउन लिस्ट है जिसमें फॉण्ट स्क्रिप्ट (Font Script) चुनी जाती है।
  4.  चौथे भाग में टाइप किए गए पाठ्य (Text) को क्रमशः गहरा (Bold) करने, तिरछा (Italic) करने, रेखांकित (Underline) करने, रंग या शेड बदलने और दाएँ तथा बाएँ हाशिए पर सेट या जस्टिफाई (Justify) करने आदि क्रियाओं के बटन होते हैं।

(v) रूलर लाइन (Ruler Line)

  • फॉर्मेट बार के ठीक नीचे एक रूलर लाइन होती है। इससे आप विभिन्न हाशिए (Margin) देख तथा सुधार सकते हैं।

(vi) पाठ्य क्षेत्र (Text Area)

  • स्क्रीन (विण्डो) का अधिकांश भाग एक आयताकार बॉक्स के रूप में रूलर लाइन के नीचे होता है, इसे पाठ्य क्षेत्र कहते हैं। जो भी सामग्री दस्तावेज में टाइप की जाती है या भरी जाती है, वह इसी क्षेत्र में दिखाई पड़ती है।

(vii) स्टेटस बार (Status Bar)

  • यह विण्डो में सबसे नीचे एक पतली पट्टी होती है। वर्डपैड द्वारा दिए जाने वाले सन्देश इसके बाएँ कोने में दिखाए जाते है। दाएँ कोने पर दो संकेतक (Indicator) होते हैं, जिनसे कुंजी पटल की क्रमशः Caps Lock तथा Num Lock कुंजियों की स्थिति का पता चलता है।

(viii) कर्सर (Cursor)

  • पाठ्य क्षेत्र में एक खड़ी लकीर (|) के आकार का कर्सर होता है, जिससे कुंजी पटल पर टाइप किए जाने वाले अक्षरों या चिह्नों की स्थिति का संकेत मिलता है। आप तीर के चिह्न वाले बटनों का प्रयोग करके इसको पाठ्य क्षेत्र की सीमा में इच्छित स्थान पर ले जा सकते हैं। इसी तरह माउस प्वॉइण्टर को फाइल में कहीं भी क्लिक करके आप कर्सर को एक बार में ही वहाँ ले जा सकते हैं।

इने भी जरूर पढ़े –

Reasoning Notes And Test 

सभी राज्यों का परिचय हिंदी में।

राजस्थान सामान्य ज्ञान ( Rajasthan Gk )

Solved Previous Year Papers

History Notes In Hindi

Leave a Reply