जंतु कोशिका तथा पादप कोशिका

Animal cell and Plant cell ( Some important facts related to the cell )

जंतु कोशिका तथा पादप कोशिका में अंतर

जंतु कोशिका (Animal Cell) पादप कोशिका (Plant Cell)
1. कोशिका भित्ती अनुपस्थित। सेल्युलोज की बनी कोशिका भित्ती उपस्थित
2. तारककाय उपस्थित तारककाय अनुपस्थित
3. रसधानियाँ अत्यधिक छोटी अथवा अनुपस्थित  बड़ी रसधानियाँ उपस्थित
4. प्लास्टिड अनुपस्थित  प्लास्टिड उपस्थित
5. प्रकाशसंश्लेषण में असमर्थ  प्रकाशसंश्लेषण में समर्थ

कोशिका से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य ( Some important facts related to the cell )

  • कोशिकाओं का अध्ययन जीव विज्ञान की जिस शाखा के अंतर्गत किया जाता है, उसे कोशिका विज्ञान (Cytology) कहा जाता है।
  • जीवन की संरचनात्मक (Structural) एवं क्रियात्मक (Functional) इकाई कोशिका (Cell) कहलाती है।
  • कोशिका की खोज राबर्ट हुक ने की थी इन्होंने स्वनिर्मित सूक्ष्मदर्शी से सर्वप्रथम कार्क की मृत कोशिका को देखा था।
  • जीवित कोशिका को सर्वप्रथम देखने का श्रेय एन्टोनीवॉन ल्यूवेनहाँक को कहा जाता है।
  • शुतुरमुर्ग का अंडा अभी तक की ज्ञात सबसे बड़ी कोशिका है।
  • कोशिका झिल्ली के अंदर घिरा पदार्थ जीवद्रव्य (Protoplasm) कहलाता है। यह जीवन का भौतिक आधार (Physical basis of life) होता है।
  • कोशिका द्रव्य में माइटोकॉण्ड्यिा , गॉल्गीबॉडी. एण्डोप्लाज्मिक रेटीकुलम प्लास्टिड दोहरी झिलली से घिरी संरचाएँ होती हैं, इनके अतिरिक्त कोशिकाद्रव्य में रिक्तिकाएं. लाइसोसोम, आदि पाये जाते हैं।
  • केन्द्रक द्रव्य में केन्द्रिका, गुणसूत्र, तारककाय आदि पाये जाते हैं।
  • माइटोकॉण्डिया एवं प्लास्टिड के पास अपना डीएनए आरएनए होता है।
  • जंतु कोशिका में प्लास्टिड (Plastid) एवं कोशिका भित्तो को छोड़कर पादप के अन्य सभी कोशिकांग पाये जाते हैं।
  • बहुकोशिकीय जीवों में दो कोशिकाओं के बीच का अवकाष्ठा अंतर्कोष्ठिाकीय अवकाष्ठा (Intercellular space) कहलाता है।
  • जटिलता के आधार पर कोशिका दो प्रकार के होते हैं- आदिम प्रकार को कोशिका प्राकरियोटिक कोशिका होती है उन्न्त प्रकार की कोशिका यूकैरियोटिक कोशिका होती है।
  • प्रोटीन तथा लिपिड की बनी कोशिका झिल्ली चयनात्मक पारगम्य (selective permiable) होती है।
  • माइटोकॉण्ड्रिया को कोशिका का ऊर्जा गृह (Power house) कहा जाता है, क्योंकि ग्रहण किये हुए भोजन का यहीं ऑक्सीकरण होता है जिसके फलस्वरूप ATP के रूप में ऊर्जा मुक्त होती है।
  • गॉल्गीबॉडी का मुख्य कार्य वसा का संचय करना है? यह एण्डोप्लाज्मिक रेटीकुलम द्वारा बने पदार्थ गॉल्गी बॉडी द्वारा पैक किये जाते हैं। इनमें राइबोसोम का निर्माण होता है।
  • एन्डोप्लामिक रेटीकुलम कोशिका का कंकाल तंत्र कहलाता है क्योंकि यह कोशिका का ढाँचा बनाता है तथा कोशिका को मजबूती प्रदान करता है।
  • कोशिका में दो प्रकार के अंत:व्यी जालिका (ER) पाये जाते हैं (1) खुरदुरे (सतह पर राइबोसोम चिपके हुए) और (2) चिकने(सतह पर राइबोसोम अनुपस्थित)  राइबोसोम में प्रोटीन संश्लेषण की सूचनाएँ होती हैं।
  • राइबोसोम को कोशिका का प्रोटीन संश्लेषण का प्लेटफार्म (Plateform of Protein Synthesis) कहते हैं।
  • लाइसोसोम का मुख्य कार्य है पाचन, यह कोशिका के अपशिष्ट पदार्थों का भक्षण करके उसे कोशिका झिल्ली के बाहर भेजने का कार्य करते हैं,
  • लाइसोसोम को कोशिका की आत्महत्या की थैली (Suicidal bag of the cell) कहा जाता है।
  • पादप कोशिकाओं में रसधानियों का आकार जंतु कोशिका की तुलना में बड़ा होता है।
  • प्लास्टिड दो प्रकार के होते हैं- (1) क्रोमोप्लास्ट और (2) ल्यूकोप्लास्ट, क्रोमोप्लास्ट रंगीन होते हैं, और ल्यूकोप्लास्ट रंगहीन।
  • लाइकोपीन टमाटर को लाल रंग प्रदान करता है इसी प्रकार जैन्थोसाइनीन बैंगन को बैंगनी रंग प्रदान करता है, आदि।
  • ल्यूकोप्लास्ट भोजन संग्रह का कार्य करते हैं।
  • जिन प्लास्टिड में हरा रंग पाया जाता है, उन्हे क्लोरोप्लास्ट कहा जाता है। क्लोरोप्लास्ट में क्लोरोफिल पाया जाता है, जिसके कारण ये हरे होते हैं और प्रकाशसंश्लेषण में सहायता करते हैं।
  • केन्द्रक गोलाकार या अंडाकार होता है तथा सामान्यतः कोशिका के मध्य भाग में एक रन्ध्रदार झिल्ली के भीतर बंद रहता है, जो इसे कोशिका-द्रव्य से पष्टथक होती है।
  • हर एक नाभिक के एक या दो अनुनाभिक (Nucleoli) होते हैं जिनमें न्यूक्लाइक अम्लों का संश्लेषण होता है। क्रोमोजोम प्रोटीन और डीऑक्सीन्यूक्लाइक अम्ल का बना होता है। आनुवांष्ठिाक गुणों का संप्रेषण क्रोमोजोम पर निर्भर करता है।

Read Also = Biology Notes In Hindi

Physics Notes In Hindi

Biology MCQ In Hindi

Gk PDF Dwanload = Click Here

Leave a Reply