बल तथा जडत्व किसे कहते हैं ?

बल तथा जडत्व  (Force and Inertia)

bal tatha jadatv in hindi

बल (Force):

  • वह भौतिक राशि जो किसी कण में त्वरण उत्पन्न करे अथवा करने का प्रयास करें, बल कहलाता है।
  • वह कारक जो स्थिर वस्तु को गतिमान या गतिमान वस्तु की स्थिति में परिवर्तन करने का प्रयास करता है, बल कहलाता है। जब वस्तु पर कार्यरत बल संतुलित होते हैं तब वह स्थिरावस्था में तथा जब असंतुलित बल कार्यरत होते हैं तब वह परिणामी बल की दिशा में गति करती है।
  • किसी पिण्ड पर कार्यरत बल की व्याख्या करने के लिए निम्न तथ्यों का निर्धारण आवश्यक होता है –
  • (1) कार्यरत बल का परिमाण
  • (2) कार्यरत बल की दिशा तथा
  • (3) कार्यरत बल के बिन्दु की स्थिति पर

जड़त्व (Inertia):

  • वस्तु का वह गुण जिसके कारण वह रेखीय गति में अवस्था परिवर्तन का विरोध करती है, जड़त्व कहलाता है। यह वस्तु के द्रव्यमान के बराबर होता है।
  • यदि कोई वस्तु स्थिर है तो वह स्थिर रहना चाहती है तथा यदि गतिशील है तो गतिशील रहना चाहती है। वस्तु के इस गुण को जड़त्व का गुण कहते हैं।

महत्त्वपूर्ण तथ्य–

  1. जड़त्व एक भौतिक राशि नहीं है, यह केवल वस्तु का अंतर्निहित गुण है जो कि वस्तु के द्रव्यमान पर निर्भर करता है।
  2. जड़त्व का कोई मात्रक अथवा विमा नहीं होती।
  3. समान द्रव्यमान की दो वस्तुओं (जिनमें से एक गतिमान तथा दूसरी स्थिर है) का जड़त्व समान होता है, क्योंकि जड़त्व केवल द्रव्यमान पर निर्भर करता है। यह वस्तु के वेग पर निर्भर नहीं करता।

इने भी जरूर पढ़े – 


नोट :- दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रश्न का आंसर चाहिए तो अपना प्रश्न कमेंट के माध्यम से हमें भेजें !

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Leave A Comment For Any Doubt And Question :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *