मानव नेत्र और उसके दोष

मानव नेत्र और उसके दोष ( Human eye And its Defects )

मानव आँख

  • मानव आँख ‘मानव शरीर की दृष्टि का अंग है जो हमें देखने में सक्षम बनाता है। मानव आंखें मानव खोपड़ी में बने विशेष सकिट में स्थित हैं। प्रत्येक मानव आंख का व्यास लगभग 2.5 सेमी होता है। आंख का लेंस रेटिना पर वस्तु की एक उलटी वास्तविक छवि बनाता है।

मानव आँख के प्रमुख भाग 

  • रेटिना – रेटिना एक संवेदनशील झिल्ली है जिसमें बड़ी संख्या में प्रकाश-संवेदनशील कोशिकाएं होती हैं।
  • कॉर्निया- आँख में प्रकाश एक पतली झिल्ली जिसे कॉर्निया कहते है, के माध्यम से प्रवेश करता है। यह आंख की बाह्यतम परत है। यह स्पष्ट, आकार में गुंबद जैसी सतह है जो आंख के अग्र भाग को ढकती है। यह आपकी दृष्टि का ध्यान केंद्रित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • पुतली- पुतली आंख के आइरिस के केंद्र में स्थित एक छेद है जो प्रकाश को रेटिना पर पड़ने देता है। यह काला दिखाई देता है क्योंकि पुतली में प्रवेश करने वाली प्रकाश किरणों को सीधे आंखों के अंदर ऊतकों द्वारा अवशोषित किया जाता है या आंखों के भीतर परावर्तन प्रसार के बाद अवशोषित किया जाता है। पुतली आंख में प्रवेश करने वाली रोशनी की मात्रा को नियंत्रित करता है।
  • आइरिस- यह एक गहरी मांसपेशी झिल्ली है जो पुतली के आकार को नियंत्रित करती है और इस प्रकार रेटिना तक पहुंचने वाली रोशनी की मात्रा को नियंत्रित करती है।
  • सिलिअरी मांसपेशी-सिलिअरी मांसपेशी आंख की मध्यम परत में चिकनी मांसपेशियों का एक गोला है जो अलगअलग दूरी पर वस्तुओं को देखने के लिए सामंजस्य को नियंत्रित करती है और श्लेम नलिका में भाव के जलीय प्रवाह को नियंत्रित करती है। यह आंख के भीतर लेंस के आकार को बदलती है, न कि पुतली के आकार को।
  • प्रकाश संवेदनशील कोशिकाएं रोशनी पड़ने पर सक्रिय होती हैं और विद्युत संकेत उत्पन्न करती हैं। ये संकेत मस्तिष्क को ऑप्टिक नसों के माध्यम से भेजे जाते हैं। मस्तिष्क इन संकेतों का अर्थ देता है, और अंततः सूचनाओं को संसाधित करता है ताकि हम वस्तुओं को समझ सके।
  • जब प्रकाश बहुत उज्ज्वल होता है, तो आईरिस पुतली को आंखों में कम रोशनी प्रवेश करने देता है। हालांकि, मंद रोशनी में आईरिस पुतलिओं द्वारा आंखों में अधिक रोशनी प्रवेश करने देने के लिए फैलता है। इस प्रकार, आईरिस के विश्राम के माध्यम से पुतली पूरी तरह से खुलती है।
  • एक इंसान एक आंख से लगभग 150 डिग्री क्षैतिज क्षेत्र देख सकता है और दोनों आँखों से लगभग 180 डिग्री देख सकता है।

समीप बिंदु या दूरस्थ दृष्टि की कम दूरी: – 

  • वह न्यूनतम दूरी जिस पर वस्तुओं को बिना तनाव के विशिष्ट रूप से देखा जा सकता है। 
  • सामान्य वयस्क आंखों के लिए, इसका मान 25 सेमी है 
  • मानव दृष्टि की सीमा- अनंत से 25 सेमी तक।

संयोजन 

  • अपनी फोकल लंबाई समायोजित करने के लिए आंखों के लेंस की क्षमता को संयोजन कहा जाता है। सिलीरी मांसपेशियों की मदद से फोकल लंबाई बदल सकती है। 
  • जब सिलीरी मांसपेशियों को आराम मिलता है और लेंस पतला हो जाता है तो फोकल की लंबाई बढ़ जाती है। 
  • जब सिलीरी मांसपेशियां सिकुड़ती हैं और लेंस मोटा हो जाता है तो फोकल की लंबाई कम हो जाती है।

मोतियाबिंद- 

  • आंशिक या विकृत दृष्टि की स्थिति को मोतियाबिंद कहा जाता है। यह आंखों के लेंस पर झिल्ली वृद्धि के कारण होता है। इस स्थिति में क्रिस्टलीय लेंस दूधिया या धुंधला बन जाता है। 

दृष्टि दोष एवं सुधार 

1. निकटदृष्टि दोष या लघु दृष्टिः 

  • निकटदृष्टि दोष से पीड़ित व्यक्ति निकट की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देख सकता है परन्तु दूर की वस्तुएं स्पष्ट नहीं दिखाई देती हैं।

कारणः

  • धुरी के साथ नेत्रगोलक का दीर्धीकरण। 
  • आँखों के लेंस की फोकल लंबाई में कमी। 
  • लोचदार सीमा से परे सिलिअरि मांसपेशियों का लोचदार सीमा से अधिक खिंचाव।

सुधारः 

  • उपयुक्त शक्ति के अवतल लेंस का उपयोग करके इसमें सुधार किया जाता है। आंख के सामने रखा अवतल लेंस मायोपिक आंख के बहुत दूर बिंदु पर दूरस्थ वस्तु की आभासी छवि बनाता है

2. हाइपरोपिया या हाइपरमेट्रोपिया या दीर्घदृष्टि दोषः 

  • हाइपरमेट्रोपिया से पीड़ित व्यक्ति दूर की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देख सकता है लेकिन निकट वस्तुओं को नहीं।

कारण: 

  • धुरी के साथ नेत्रगोलक का छोटा होना। 
  • आँखों के लेंस की फोकल लंबाई में वृद्धि। 
  • सिलिअरि मांसपेशियों का सख्त होना !


इने भी जरूर पढ़े – 

Leave a Reply