प्रकाश का प्रभाव

prakash ka vidyut prabhav

प्रकाश का प्रभाव ( prakash ka prabhav )

प्रकाश का परावर्तन

  • दर्पण जैसी अत्यधिक चिकनी या परिष्कत सतह, उस पर गिरने वाले अधिकांश प्रकाश को परावर्तित करती है। सतह से प्रकाश के वापिस आने की घटना को प्रकाश के परावर्तन के रूप में जाना जाता है। एक वस्तु अपने ऊपर पड़ने वाले प्रकाश को परावर्तित करता है। यह परावर्तित प्रकाश, जब हमारी आँखों द्वारा प्राप्त किया जाता है तब हम वस्तओं को देख पाते हैं। हम पारदर्शी माध्यम के आर-पार देखने में सक्षम होते हैं, क्योंकि प्रकाश इसके आर-पार संचारित होता है।

प्रकाश के परावर्तन के नियम

  • (I)आपतन कोण और परावर्तन कोण बराबर होते हैं 
  • (ii)एक दर्पण के आपतन बिंदु पर आपतित किरण लम्ब और परावर्तित किरण समान तल पर होती हैं। परावर्तन के ये नियम गोलाकार सतहों सहित सभी प्रकार की परावर्तित सतहों पर लागू होते हैं।

गोलीय दर्पण

  • एक गोलीय दर्पण की परावर्तन सतह अंदर या बाहर की ओर वक्र हो सकती है। 
  • कम अपर्चर के गोलीय दर्पण में, वक्रता की त्रिज्या फोकल लम्बाई के दुगुने के बराबर होती है। हम इसे इस प्रकार देख सकते हैं R = 2f, इसका तात्पर्य है कि एक गोलीय दर्पण का मुख्य फोकस ध्रुव और वक्रता के केंद्र के बीच मध्यमार्ग है।

1. अवतल दर्पण 

  • एक गोलीय दर्पण, जिसकी परावर्तित सतह अंदर की ओर वक्र होती है, अर्थात, गोले के केंद्र की ओर उन्मुख होगा, इसे अवतल दर्पण कहा जाता है।

अवतल दर्पण के उपयोग

  • टॉर्च में उपयोग किये जाते हैं, सर्च-लाइट्स में तथा वाहनों की हेडलाइट के रूप में सामानांतर प्रकाश प्रसारण के लिए उपयोग किये जाते हैं। 
  • चेहरे की बड़ी छवि दिखाने के लिए शेविंग दर्पणों के रूप में। 
  • मरीजों के दांतों की बड़ी छवि देखने के लिए दन्तचिकित्सकों द्वारा अवतल दर्पण का प्रयोग किया जाता हैं। 
  • सौर भट्टियों में गर्मी के उत्पादन के लिए सूर्य की रोशनी को केंद्रित करने के लिए बड़े अवतल दर्पणों का उपयोग किया जाता है 

2. उत्तल दर्पण 

  • एक गोलीय दर्पण, जिसकी परावर्तित सतह बाहर की ओर वक्र होती है, उत्तल दर्पण कहलाता है।

उत्तल दर्पण के उपयोग

  • आम तौर पर वाहनों में रियर व्यू (विंग) दर्पण के रूप में प्रयोग किया जाता है। ड्राइविंग को सुरक्षित बनाने के लिए ये दर्पण, वाहन के किनारों पर लगाए जाते हैं, जिससे चालक अपने पीछे आने वाले यातायात को देख सके। यह यह ड्राइवर को एक सामान्य समतल दर्पण की तुलना में ज्यादा बड़ा क्षेत्र देखने में सक्षम बनाता है। 
  • इनका उपयोग बडे शोरूम और विभागीय स्टोर में. उत्तल दर्पणों का उपयोग ग्राहकों के अन्दर आने के साथ-साथ बाहर जाने के बारे में देखने के लिए किया जाता है।

संबंधित शब्द जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए :-

  • प्रकाश की किरणः प्रकाश के प्रसार की दिशा में खींची गई रेखा को प्रकाश की किरण कहा जाता है। 
  • प्रकाश का पुंजः प्रकाश के स्रोत द्वारा उत्सर्जित प्रकाश की किरणों का एक समूह प्रकाश का पुंज कहलाता है। प्रकाश पुंज तीन प्रकार के होते हैं। 
  • वास्तविक प्रतिबिम्ब : परावर्तन के पश्चात् प्रकाश की किरणों के वास्तविक प्रतिच्छेदन द्वारा बनी एक प्रकार की छवि है। 
  • आभासी प्रतिबिम्ब : यह परावर्तन के पश्चात् वापिस आई प्रतिबिम्बित किरणों के द्वारा बनी छवि है। 
  • ध्रुवः एक गोलाकार दर्पण की परावर्तित सतह का केंद्र ध्रुव नामक एक बिंदु है। यह दर्पण की सतह पर स्थित होता है। 
  • वक्रता केंद्रः एक गोलाकार दर्पण की परावर्तित सतह गोलीय क्षेत्र का एक भाग बनाती है। इस गोले का एक केंद्र होता है। यह बिंदु गोलाकार दर्पण की वक्रता का कद्र कहलाता है।
  • वक्रता त्रिज्याः गोलाकार दर्पण की परावर्तित सतह जिस गोले के भाग से बनती है उसकी त्रिज्या को दर्पण की वक्रता त्रिज्या कहते हैं। 
  • मुख्य अक्ष/मुख्य धुरी: एक सीधी रेखा ध्रुव और गोलाकार दर्पण के वक्रता के केंद्र से गुजरती है। इस रेखा को मुख्य धुरी कहा जाता है।
  • मुख्य फोकस/मुख्य नाभि– जब किरण अनंतता से गोलाकार दर्पण की ऑप्टिकल धुरी के समानांतर आती हैं, तो वे झक जाती हैं जिससे वे या तो एक बिंदु पर अभिसरण और प्रतिच्छेद कर सकें, या वे एक बिंदु से विभिन्न दिशाओं में फैल जाती हैं। अभिसरण या विचलन का बिंदु फोकस कहलाता है। इसे वर्ण F द्वारा दर्शाया जाता है। 
  • फोकस लंबाई: ध्रुव और गोलाकार दर्पण के मुख्य फोकस के बीच की दूरी को फोकल लम्बाई कहा जाता है। इसे वर्णF द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।
  • द्वारक/अपर्चरः एक गोलाकार दर्पण की परावर्तित सतह का व्यास द्वारक/अपर्चर कहलाता है।
  • आवर्धनः एक गोलाकार दर्पण के द्वारा उत्पादित आवर्धन एक वस्तु के आकार के सापेक्ष एक वस्तु की छवि को बढ़ाने के लिए सम्बन्धित प्रसार प्रदान करता है

इने भी जरूर पढ़े – 

Leave a Reply