त्वरण क्या है? त्वरण के प्रकार

twaran kya hai or twaran ke prakar

त्वरण क्या है? त्वरण के प्रकार ( twaran kya hai or twaran ke prakar )

त्वरण (Acceleration)

  • किसी वस्तु के वेग में परिवर्तन की दर को त्वरण कहते हैं।
  • यह एक सदिश राशि है। इसकी दिशा वेग परिवर्तन की दिशा होती है (वेग की दिशा नहीं)।
  • विमा : [M°L’T-2]
  • SI मात्रक :-  मीटर / सेकण्ड2 , CGS मात्रक :-  सेमी. / सेकण्ड2 ,

त्वरण के प्रकार –

  • (a) एकसमान त्वरण-जब गतिशील कण के त्वरण का परिमाण तथा दिशा दोनों नियत रहे तब कण का त्वरण एकसमान त्वरण होता है।
  • (b) असमान (परिवर्ती) त्वरण-जब गतिशील कण के त्वरण का परिमाण अथवा दिशा अथवा दोनों परिवर्तित हो तब कण का त्वरण परिवर्ती त्वरण होता है।
  • (c) औसत त्वरण(माध्य त्वरण) (Average acceleration) – किसी वस्तु के एकांक समय में कुल वेग में परिवर्तन को औसत त्वरण कहते हैं।
  • (d) तात्क्षणिक त्वरण (Instantaneous acceleration) – किसी निश्चित समय या क्षण पर वस्तु के त्वरण को तात्क्षणिक त्वरण कहते हैं।

त्वरण से सम्बन्धित महत्त्वपूर्ण तथ्य–

  • त्वरण धनात्मक, शून्य अथवा ऋणात्मक हो सकता है। धनात्मक त्वरण का तात्पर्य है कि वेग समय के साथ बढ़ रहा है। शून्य त्वरण का तात्पर्य हे कि वेग नियत हैं जबकि ऋणात्मक त्वरण का तात्पर्य है कि वेग समय के साथ कम हो रहा है। ऋणात्मक त्वरण को मंदन (Deceleration) कहते हैं।
  • गतिशील कण के तात्क्षणिक वेग की दिशा तथा त्वरण की दिशा में कोई सम्बन्ध नहीं होता है।

इने भी जरूर पढ़े – 


नोट :- दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रश्न का आंसर चाहिए तो अपना प्रश्न कमेंट के माध्यम से हमें भेजें !

Leave a Reply